१० घरेलु उपचार जो कब्ज़ दूर करने में रामबाण साबित होंगे - HEALTH IS WEALTH
१० घरेलु उपचार जो कब्ज़ दूर करने में रामबाण साबित होंगे

१० घरेलु उपचार जो कब्ज़ दूर करने में रामबाण साबित होंगे

कब्ज़ ऐसी बीमारी नहीं है जिसका इलाज असंभव हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि कुछ घरेलु उपचार के द्वारा इस बीमारी से राहत पाया जा सकता है।

आज के व्यस्त जीवनशैली के दबाव में लोगों के पास सही समय पर सही खाना खाने का वक्त नहीं है। (Constipation Ayurvedic treatment and home remedies) और इसी दबाव का दुष्प्रभाव कब्ज़ के रूप में स्वास्थ्य को चुकाना पड़ता है। कब़्ज के कारण शरीर को अनेक प्रकार के बीमारियों का सामना करना पड़ता है। कब्ज़ की बीमारी जिसे होती है उसे ही इस दर्द का एहसास हो सकता है कि यह बीमारी कितनी भयानक और दर्द देने वाली है। वैसे तो इस दर्द से राहत पाने के लिए बाजार में अनेक प्रकार की दवाईयाँ मिल जायेंगी लेकिन यह सामयिक रूप से काम करती है। आपके घर में ही ऐसे बहुत सारे उपचार मिल जायेंगे जो न सिर्फ इसके दर्द से राहत दिलाने में मदद करेंगे बल्कि इसके समस्या को पूरी तरह से ठीक करने में भी सहायता करते हैं-

1. त्रिफला चूर्ण

त्रिफला मूलतः तीन तरह के फलों – आंवला, हरड़, बहेड़ा के मिश्रण से बना होता है। यह बहुत ही प्रभावकारी विरेचक औषधि (laxative) होता है जो हजम शक्ति को बढ़ाने के साथ-साथ मल त्याग (bowel movements) के प्रक्रिया को भी आसान बनाता है। पढ़े- एक महीने में 2 किलो वज़न घटाने के लिए खाएं त्रिफला चूर्ण

विधि- एक गिलास गर्म पानी में एक छोटा चम्मच त्रिफला का चूर्ण पी सकते हैं या सुबह खाली पेट या रात को सोने के पहले एक छोटे चम्मच त्रिफला चूर्ण के साथ शहद को मिलाकर भी खा सकते हैं।

2. किशमिश

इसमें फाइवर प्रचुर मात्रा में होता है जो प्राकृतिक रूप से विरेचक औषधि का काम करता है।

विधि- एक मुट्ठी किशमिश रात भर भिंगोकर रखें और सुबह उठकर खाली पेट इसका सेवन करने से कब्ज़ से राहत मिलता है। बिना किसी पार्श्व प्रभाव के इसका सेवन करना गर्भवती महिलाओं के लिए भी लाभदायक होता है।

3. अमरूद या पेरू

इसके गुदे में घुलनशील फाइबर होने के साथ-साथ बीजों में अघुलनशील फाइबर भी होता है।

4. नींबू पानी

यह मूल रूप से पेट को साफ करने का काम करता है। नींबू पानी में जो नमक होता है वह मल त्याग करने के प्रक्रिया को आसान बनाने में मदद करता है।

विधि- एक गिलास गुनगुने गर्म पानी में एक छोटा चम्मच नींबू का रस डालें और उसमें एक चुटकी नमक डालकर अच्छी तरह से मिला लें। नींबू का मिश्रण खाली पेट पीने से कब्ज़ से राहत मिलता है। यह पेट से विषाक्त पदार्थ को निकालने में भी पूरी तरह से मदद करता है।

5. अंजीर

अंजीर पका हुआ हो या कच्चा हो इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है। इसलिए विरेचक औषधि के रूप में प्रभावकारी रूप से काम करता है।

विधि- एक गिलास दूध में थोड़ा अंजीर डालकर अच्छी तरह से उबाल लें। उसके बाद इस गुनगुने गर्म मिश्रण को रात को सोने से पहले पी लें। यह कब्ज़ से राहत दिलाने में दूसरे सिरप जैसे दवाइयों के तुलना में प्रभावकारी रूप से काम करेगा।

6. अलसी

जब कब्ज़ के दर्द से आप तड़प रहे होते हैं तो इस समस्या से निजात दिलाने में अलसी बहुत मदद करता है क्योंकि इसमें फाइबर बहुतायत मात्रा में होता है।

विधि- आप सुबह नाश्ते में अपने सेरल में अलसी को मिलाकर भी खा सकते हैं या गुनगुने गर्म पानी के साथ एक मुट्ठी अलसी का भी सेवन कर सकते हैं।

7. अरंडी का तेल (Castor oil)

सालों से कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल कब्ज़ के बीमारी को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है, क्योंकि इसमें भी फाइबर उच्च मात्रा में होता है।

विधि- यूं ही अरंडी तेल को पीना मुश्किल होता है मगर एक गिलास गर्म दूध में एक बड़ा चम्मच कैस्टर ऑयल डालकर पीने से कब्ज़ से राहत मिलती है।

8. पालक

पालक एक ऐसा खाद्द पदार्थ है जो आंत्र पथ (intestinal tract) को साफ और स्वस्थ करने के काम आता है।

विधि- 100 एम.एल. पालक के रस को एक समान मात्रा में पानी में मिलाकर दिन में दो बार पीयें। यह पुराने कब्ज़ के बीमारी को भी ठीक करने में बहुत असरदार रूप से काम करता है।

9. संतरा

संतरा न सिर्फ विटामिन सी का स्रोत होता है बल्कि फाइबर का प्रमुख स्रोत होता है।

विधि- सुबह शाम दो संतरा खाने से कब्ज़ से कुछ हद तक राहत तो ज़रूर मिलता है।

10. बीज का मिश्रण

इस मिश्रण में फाइबर उच्च मात्रा में होता है जो कब्ज़ से राहत दिलाने में बहुत मदद करता है।

विधि- 2-3 सूर्यमूखी का बीज, अलसी का बीज, तिल का बीज और बादाम को एक साथ मिलाकर अच्छी तरह से पीस लें। एक हफ़्ते तक एक बड़ा चम्मच इस मिश्रण का सेवन करें। यह न सिर्फ कब्ज़ से राहत दिलाने में मदद करता हैं वरन् आंत्र के दिवार को पुनर्जीवित(rejuvenating) करने में भी मदद करता है।

कब्ज़ को दूर करने के कुछ टिप्स:

कब्ज़ को दूर करने के साथ-साथ स्वा स्थ्यवर्द्धक आदतों का अनुसरण करना भी ज़रूरी होता है-

• मैदा, चीनी और दूसरे प्रोसेस्ड फूड का सेवन करना नहीं चाहिए

• नियमित रूप से खाना खाना चाहिए

• फल और सब्ज़ी का सेवन करना चाहिए

• अपने भोजन में जीरा, हल्दी और अजवाइन को शामिल करना चाहिए

• रोज आठ से दस गिलास पानी पीना चाहिए

• सुबह खाली पेट गुनगुना गर्म पानी पीना चाहिए

इन टिप्स को ध्यान में रख कर घरेलु उपायों के द्वारा कब्ज़ से राहत पाया जा सकता है। और हर सुबह को खुशहाल बनाया जा सकता है।

source : newstrend

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *