बेवजह सुनाई देती है 'सीटी' जैसी आवाज, तो हो सकती है आपको ये बीमारी - HEALTH IS WEALTH
बेवजह सुनाई देती है ‘सीटी’ जैसी आवाज, तो हो सकती है आपको ये बीमारी

बेवजह सुनाई देती है ‘सीटी’ जैसी आवाज, तो हो सकती है आपको ये बीमारी

कानों में अचानक से आवाज गूंजना या सीटी जैसी ध्वनि सुनाई देना टिनिटस नामक बीमारी होती है और आजकल अधिकतर लोगों में ये बीमारी पाई जा रही है। टिनिटस होने पर अचानक से कान में आवाजे सुनाई देती है और कई बार कान में दर्द होने लग जाती है। अगर आपको भी बिना कारण कोई आवाज सुनाई देती है तो आपक इस बीमारी का शिकार हो सकते हैं। वहीं ये बीमारी होने के क्या लक्षण और कारण होते हैं और इस बीमारी से किस तरह से बचा जा सकता है, उसकी जानकारी इस तरह से हैं.

टिनिटस बीमारी के लक्षण

टिनिटस होने पर कानों में सीटी, कोई धुन और दहाड़ जैसी आवाज सुनाई देती है और ये आवाज कानों में गूंजते रहती है। जबकि कई लोगों को कानों में दर्द की समस्या भी होने लग जाती है। अगर समय रहते हुए इस बीमारी का इलाज नहीं करवाया जाता है। तो सुनने की क्षमता पर बुरा असर पड़ता है और कम सुनाई देने लग जाता है। इसलिए ये बीमारी होते ही आप इसका इलाज तुरंत करवा लें।

टिनिटस बीमारी होने के कारण

  • टिनिटस बीमारी कई कारणों से हो सकती है। जो लोग तेज आवाज में गाने सुनते हैं उनको ये बीमारी होने का खतरा अधिक रहता है। इसलिए अगर आप तेज आवाज में गाने सुनते हैं तो ऐसा करना बंद कर दें।
  • कई बार कान में अधिक वैक्स इकट्टा हो जाती है और वैक्स के कारण भी ये समस्या हो जाती है। इसलिए आप समय समय पर अपने कानों को साफ करें और कान में अधिक वैक्स जमा ना होने दें।
  • कान की हड्डी बढ़ना भी ये बीमारी होने का मुख्य कारण होता है। इतना ही नहीं कई बार कान की हड्डी बढ़ने से कान में दर्द की शिकायत भी हो जाती है।
  • उम्र बढ़ने के साथ ही टिनिटस बीमारी होने का खतरा अधिक बढ़ जाता है और सुनने की क्षमता क्षीण होने लग जाती है।

टिनिटस बीमारी से कैसे बचा जाएं

  • अधिक शोर वाली जगहों पर जाने से बचें और तेज आवाज में गाने ना सुना करें। इसके अलावा इयरफोन का इस्तेमाल अधिक ना करें। क्योंकि जो लोग अधिक समय इयरफोन का प्रयोग करते हैं उन लोगों को ये बीमारी होने का खतरा अधिक होता है।
  • कान की सफाई का आप विशेष ध्यान रखें और दो हफ्ते में एक बार रूई की मदद से अपने कानों को अच्छे से साफ करें। हालांकि आप कान साफ करते हुए इस बात का ध्यान रखें की आप ज्यादा तेजी से कान को साफ ना करें और रूई को कान के ज्यादा अंदर ना डालें।
  • आयु बढ़ने के साथ ही आप समय-समय पर अपने कानों की जांच डॉक्टर से जरूर करवाया करें।

कान में दर्द होने पर या चीजें कम सुनाई देने पर आप तुंरत डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि अगर वक्त रहते ही इस बीमारी का उपचार करवा लिया जाए तो ये सही हो जाती है। इसलिए ऊपर बताए गए लक्षणों को आप नजरअंदाज ना करें और अपने कानों की देखभाल अच्छे से करें।

source : newstrend

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *